असंगठित मजदूर का सरदारी विवाद थाना में एक दिवसीय धरना

लोयाबाद बासुदेवपुर कोल डंप में सरदारी विवाद थम नहीं रहा है। गुरुवार को आजसु समर्थित असंगठित मजदूर संघ के मजदूरों ने चंद्रदेव भुईयाँ के मजदूरों को काम देने की मांग को लेकर लोयाबाद थाना के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया। सरदार चंद्रदेव भुईयाँ की अध्यक्षता में दिया गया धरना में बाहरी नेताओं का भी जमावड़ा रहा। मासस के केंद्रीय प्रदेश सचिव हलधर महतो मानस चटर्जी तथा झामुमो के मनोज महतो अनवर मुखिया आदि मौजूद थे।

एसडीएम का साफ आदेश सरदार रमेश हाड़ी होगा-पुलिस

इधर पुलिस प्रशासन का कहना है कि एसडीएम के द्वारा साफ निर्देश दिया गया है रमेश हाड़ी सरदार होगा तथा चंद्रदेव भुईयाँ व रमेश हाड़ी के मजदूर मिल कर काम करेंगे बावजूद ये लोग धरना दे रहे हैं।बताते चलें कि दो दिन पहले इस मामले को लेकर कॉंग्रेस और आजसु समर्थक थाना में आमने-सामने हो गए थे। दोनों पक्षों के लोग बीच जमकर नोक-झोंक हुई थी तथा मारपीट होते-होते बची थी। आजसु समर्थित मजदूर तथा पार्टी समर्थक दिन के करीब 11 बजे जुलूस की शक्ल में हाथ में तख्तियाँ लिए तथा नारेबाजी करते हुए थाना क पास पहुँचे और सड़क के दूसरे किनारे धरना पर बैठ गए।

मजदूरों को हक दिलाने के लिए बिहार से आये हैं: चंद्रदेव भुईयां

चंद्रदेव भुईयाँ ने कहा कि वह पहले मजदूरों का सरदार था। उसकी नौकरी बिहार में पारा शिक्षक में हो गई है। उनके मजदूरों को काम नहीं दिया जा रहा है। मजदूरों को हक दिलाने के लिए बिहार से आकर आंदोलन कर रहे हैं।

आजसु पार्टी के जिला अध्यक्ष मंटू महतो मजदूरों को गुमराह कर आपस में लडा रहे हैं: रमेश हाड़ी

रमेश हाड़ी ने आजसु पार्टी के जिला अध्यक्ष मंटू महतो व उसका भतीजा संतोष महतो पर भोले-भाले मजदूरों को गुमराह कर आपस में लडाने का आरोप लगाया। कहा कि डंप में वर्चस्व रंगदारी के लिए इस तरह का खेल खेला जा रहा। 2002 वे और चंद्रदेव भुईयाँ दोनों सरदार थे। चंद्रदेव की नौकरी हो जाने के बाद वे बिहार चले गए। जब से काम आया है उसी समय उनके मजदूरों को काम के लिए बुलाया जा रहा है लेकिन वे लोग नहीं आते हैं। एसडीएम साहब ने भी सारी कागजात को देखने के बाद फैसला दिया कि रमेश हाड़ी सरदार होगा और दोनों के मजदूर काम करेंगे। एसडीएम के फैसले को वह मानते हुए चंद्रदेव भुईयाँ के मजदूरों को काम देने के लिए तैयार हैं।

मजदूरों के निवेदन पर इस धरना में शामिल हुए-हलधर महतो

मसस के प्रदेश सचिव हलधर महतो ने कहा कि वे इस धरना में मजदूरों के निवेदन पर आये हैं। सत्ताधारी मजदूरों का हक छीन रहे हैं यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मजदूरों को हक दिलाने के लिए एसडीएम से बात करेंगे।

बिना झंडा का रंग देखे मजदूरों के लिए लड़ना:-मानस चटर्जी

सीटू के सचिव मानस चटर्जी ने कहा कि सीटू का गाइड लाइन है कि बिना झंडा देखे मजदूरों के लिए लड़ाई लड़ना। वे मजदूरों को उनके हक दिलाने के लिए धरना पर बैठे हैं।

धरना पर आजसु पार्टी के नगर अध्यक्ष जितु पासवान विनोद पासवान शंकर केसरी मो० जमीर गुड्डू रवानी विभा सहाय पूनम प्रसाद मिना सिंह रमेश रवानी सुषमा शर्मा सुदमिया देवी चंपा देवी सहित अन्य लोग धरना पर बैठे थे।

यह आंदोलन राजनीति से प्रेरित-थाना प्रभारी

थाना प्रभारी चुन्नू मुर्मू ने कहा कि मजदूरों का यह आंदोलन राजनीति से प्रेरित है इसलिए यह खत्म नहीं हो रहा है। 22 फरवरी को मजदूरों के दोनों गुटों के रमेश हाड़ी और चंद्रदेव भुईयाँ को एसडीएम के पास भेजे थे। सिर्फ रमेश हाड़ी एसडीएम के पास गए चंद्रदेव भुईयाँ नहीं गए। एसडीएम के फैसले को दोनों पक्षों के लोगों को अवगत करा दिया है। एक पक्ष एसडीएम के फैसले को मानने के बजाय थाना के सामने धरना दे रहे हैं जो गलत है।

Last updated: फ़रवरी 25th, 2021 by Pappu Ahmad
Pappu Ahmad Pappu Ahmad
Correspondent, Dhanbad
अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।