पीएचई के संरक्षित क्षेत्र में दिन के उजाले में काट दिये गए पेड़, किसी भी अधिकारी को खबर ही नहीं

कल्याणेश्वरी। पश्चिम सरकार की सरकारी संस्थान पीएचई विभाग कल्याणेश्वरी संरक्षित क्षेत्र के भीतर दिनदहाड़े पेड़ कटाई का मामला प्रकाश में आया है। परंतु हैरत की बात है चारदीवारी के भीतर सिमल का विशाल पेड़ कट जाने के बाद भी किसी अधिकारी अथवा पीएचई कर्मी को मामले की जानकारी नहीं है।

कटे हुये पेड़ एवं लाल घेरे में आरोपी

मामले को लेकर बताया जाता है कि गुरुवार से ही पेड़ की कटाई की जा रही थी, जिसमें स्थानीय पीएचई विभाग के कुछ सुभचिंतक एवं पहुँच वाले लोगों का नाम सामने आ रही है, किन्तु कोई भी कुछ बताने को तैयार नहीं है।

हालांकि पेड़ कटाई के पूर्व यहाँ वन विभाग की आदेश होने की हवा बना दिया गया था। लिहाजा खबर फैलने के बाद पेड़ काट रहे लोग घटना स्थल से भाग खड़ा हुये । इधर मामले की जानकारी होदला फॉरेस्ट बिट ऑफिसर रहमान को मिलते ही दल बल के साथ पहुँचकर घटना स्थल का निरीक्षण किया।

दिन के उजाले में अवैध रूप से संरक्षित क्षेत्र में पेड़ कटवाते ये लोग

उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार से पेड़ काटने की अनुमति नहीं ली गयी है। मामले की जाँच कर दोषियों को चिन्हित किया जा रहा है । जिसके बाद दोषियों पर कानूनी कार्यवाही की जाएगी। फिलहाल कटी हुई पेड़ को जब्त करने की प्रक्रिया की जा रही है।

जिनके परिसर में पेड़ कटा उन्हें मालूम नहीं

इसी दफ्तर के परिसर से कटा है पेड़

पीएचई विभाग (आसनसोल) के चीफ मेकेनिकल एक्सयूटिव आसिष नस्कर ने कहा कि मुझे मामले की जानकारी नहीं है कि पीएचई विभाग परिसर में पेड़ की कटाई की गई है, मैं तत्काल मामले की संज्ञान लेकर देखता हूँ क्या मामला है। जिसके बाद आगे की कार्यवाही की जाएगी।

Last updated: नवम्बर 8th, 2019 by Guljar Khan

हर रोज ताजा खबरें पढ़ने के लिए व्हाट्सऐप या ईमेल सबस्क्राइब कर लें
Whatsapp email
सबस्क्राइब कर चुके हैं तो यहाँ क्लिक करें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।