पुलिसिया धौंस दिखा कर दामाद पर तलाक का दवाब डाल रहे तृणमूल नेता  

गलसी पुलिस की मदद से शर्मिष्ठा मण्डल को उसके पति से अलग करना चाहते हैं शर्मिष्ठा के परिवारवाले , ये कहना है शर्मिष्ठा के पति जीवनदीप चौधुरी का ।

कोर्ट मैरेज के बाद भी अपने माता पिता के साथ रह रहे थे

उम्र में बालिग गलसी थाना क्षेत्र के पराज के रहने वाले दोनों जोड़े ने 28 अप्रैल 2018 गलसी के एक मैरेज़ रजिस्ट्रार के समक्ष कोर्ट मैरेज़ कर लिया। विवाह के बाद दोनों अलग-अलग अपने माता-पिता के साथ ही रहने लगे और किसी को कुछ भी नहीं बताया । पति जीवनदीप का कहना है कि शर्मिष्ठा स्नातक के फाइनल ईयर में थी और वे चाहते थे कि परीक्षा के बाद वे साथ में रहें।

करीब 5 महीने तक सब कुछ सामान्य रहा और दोनों परिवारों में से किसी को भी कोई भनक नहीं लगी। इस बीच दोनों का गुपचुप मिलना और फोन पर बातचीत लगातार होती रही। दो महीना पहले कुछ शक होने पर शर्मिष्ठा के पिता ने शर्मिष्ठा को डांटा और जीवनदीप से मिलने या बात करने से मना किया, तब शर्मिष्ठा ने साफ-साफ बता दिया कि उसने जीवनदीप से शादी कर ली है।  उसके बाद से समस्या शुरू हो गयी ।

गलसी पुलिस नहीं कर रही कोई मदद

उन्होने गलसी थाना को पूरी बात बताई कि उनका कोर्ट मैरेज़ हुआ है और अपने पत्नी को अपने साथ रखना चाहते हैं। उन्हें उनकी पत्नी से मिलने दिया जाये। लेकिन गलसी थाना ने उनकी बात नहीं मानी उल्टा तलाक का दवाब बनाने लगे ।

जीवनदीप ने बताया कि शर्मिष्ठा को उसके घर वालों ने उसका घर से निकलना बंद कर दिया और मोबाइल भी छीन ली। अब वे चाहते हैं कि दोनों का तलाक हो जाये और बेटी का व्याह कहीं और कर दें । इसके लिए वे जीवनदीप पर लगातार दवाब बना रहे हैं। उनके इस काम में गलसी पुलिस भी उनकी मदद कर रही है। थाने बुलाकर जीवनदीप को तलाक दे देने के लिए कहा गया । लेकिन वे इसके लिए राजी नहीं हुये।

मैरेज शर्टिफिकेट

जीवनदीप ने बर्दवान कोर्ट में भी गुहार लगाई है कि उन्हें उनकी पत्नी से मिलने दिया जाये । बर्दवान कोर्ट ने 11 अक्तूबर को एक आदेश जारी करके गलसी थाना से 14 नवंबर तक पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी लेकिन गलसी थाना ने रिपोर्ट नहीं दी एवं कोर्ट से और समय मांग लिया । इस पर कोर्ट ने फटकार भी लगाई और  11 दिसंबर तक रिपोर्ट दाखिल करने को कहा। इस बीच जीवनदीप पर तलाक के लिए लगातार दवाब बनाया जा रहा है और  धमकियाँ भी दी जा रही है।

किसी भी दवाब से नहीं डरेंगे जीवनदीप

जीवनदीप का कहना है कि शर्मिष्ठा के पिता यानि उनके ससुर इलाके के कद्दावर तृणमूल नेता हैं और वे थाना का धौंस दिखा कर उन्हें डराना चाहते हैं। कोर्ट में भी वकील के माध्यम से उनपर तलाक देने का दवाब बनाया गया। लेकिन जीवनदीप का कहना है कि वे किसी  के भी दवाब में डरेंगे नहीं और किसी के भी कहने पर तलाक नहीं देंगे। यदि श्रमिष्ठा स्वयं तलाक मांगती है तब विचार करेंगे ।

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video News Uploaded

Last updated: नवम्बर 19th, 2018 by Central Desk - Monday Morning News Network