आतंकवाद इंसानियत का दुश्मन- ग़ुलाम ग़ौस आसवी

भारतीय वायु सेना के द्वारा उठाया गया क़दम स्वागत के योग्य है। आज भारतीय सेना ने यह दिखा दिया कि उसे सिर्फ कहने पर नहीं,करने पर विश्वास है। हमारे 40 जवानों के शहीद होने से जितना दर्द हुआ था,आज दिल को उतना ही सुकून मिला है। पिछले दिनों मैंने कहा भी था कि सिर्फ कड़ी निंदा नहीं, कड़े क़दम उठाने की ज़रूरत है और आज वह क़दम भारतीय सेना ने उठा लिया है। आतंकवाद एक ऐसी वैश्विक समस्या है, जो इंसानियत का दुश्मन है। भारत देश शांति का अग्रदूत रहा है, लेकिन शांति-शांति का जाप करने से शांति नहीं आ सकती,बल्कि शांति के लिए आवश्यक प्रयास भी करना होगा। अब सेना के हाथ खोलने का समय आ गया है। उसे इस तरह के जवाबी कार्यवाही करने के लिए पूर्ण स्वैच्छिक स्वतंत्रता देनी चाहिए।


-ग़ुलाम ग़ौस आसवी, कवि-शिक्षक,मदनाडीह, धनबाद।

यदि आप भी अपनी कोई बात या निजी राय मंडे मॉर्निंग के माध्यम से देश-दुनिया को बताना चाहते हैं तो हमें इस पते पर लिख भेजें - mondaymorning.editor@gmail.com ध्यान रखें कि लेख अधिक लंबा नहीं होना चाहिए। वर्तनी की अशुद्धि अधिक न हो, कहीं से कॉपी-पेस्ट न हो। चुनिंदा लेखों को ही हम स्थान दे पाएंगे। अपना मोबाइल नंबर लिखना न भूलें
Last updated: फ़रवरी 26th, 2019 by Pappu Ahmad
हर रोज ताजा खबरें पढ़ने के लिए व्हाट्सऐप या ईमेल सबस्क्राइब कर लें
Whatsapp email
सबस्क्राइब कर चुके हैं तो यहाँ क्लिक करें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।