दुर्गापुर में हड़ताल विफल रहा, पुलिस की सख्ती और तृणमूल का दवाब प्रभावी रहा

दुर्गापुर : माकपा व कॉंग्रेस के मजदूर संगठन की ओर से दो दिन के बुलाए गए मंगलवार व बुधवार की हड़ताल का मंगलवार को कोई असर नहीं देखने को मिला। दुर्गापुर शहर के सभी दुकान खुले रहें। सरकारी कार्यालय, स्कूल, कालेज, कल-कारखाना खुला रहा। जहाँ लोगों की उपस्थिति भी अच्छी खासी रही।

हड़ताल के कारण सरकारी कार्यालय में कम लोग पहुँचे। वहीं पुलिस भी हड़ताल को विफल करने के लिए सड़क पर उतर गई थी। बंद समर्थकों के खिलाफ पुलिस की ओर से भी कार्यवाही किया गया।

दुर्गापुर के कोकोेवेन थाना इलाके में पंकज राय सरकार के नेतृत्व में माकपाइयों ने बंद करवाने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस ने पंकज राय समेत उसके समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया।

माकपाइयों ने पंकज राय सरकार को रिहा करने की मांग पर कोकोवेन थाना का घेराव भी किया। जहाँ तृकां समर्थक भी जुलूस करते हुए पहुँचे।

सभी प्लांटों में तृकां ट्रेड यूनियन के लोग भी श्रमिकों को सुरक्षा देते नजर आए, जहाँ पुलिस भी थी।

दुर्गापुर इस्पात संयंत्र में शेख सहाबुद्दीन के नेतृत्व में तृणमूल कॉंग्रेस समर्थक सुबह से ही मौजूद थे। इस कारण वहाँ भी बंद समर्थक कुछ नहीं कर पाए एवं काफी संख्या में श्रमिक काम के लिए पहुँचे।

चंडीदास बाजार में भी माकपा की ओर से बंद के लिए जुलूस निकाला गया।

बीएमएस नेता अरूप राय ने कहा कि दुर्गापुर इस्पात संयंत्र में उत्पादन पर कोई असर नहीं पड़ा। रोज के तुलना में श्रमिकों की उपस्थिति अच्छी थी। भाजपा नेता लखन घोरूई ने कहा कि बंद का कोई असर नहीं पड़ा। तृणमूल कॉंग्रेस नेता उत्तम मुखर्जी ने कहा कि बंद को शहर की जनता ने विफल कर दिया।

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video Upload

Last updated: जनवरी 8th, 2019 by Durgapur Correspondent