जमीन आवंटित किए जाने तक जारी रहेगी हिंदुस्तान केबल्स पुनर्वास आंदोलन

सालानपुर । हिंदुस्तान केबल्स बंद होते ही राजनीतिक गलियारों में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला परवान पर है । अपने नेताओं के इस रवैये ने केबल्स बंद की भेंट चढ़े परिवारों में आन्दोलन की चिंगारी फूँक दी है । यह चिंगारी दस से सौ और आज दो हजार परिवार के दिलों की आग बन चुकी है ।

इस संगठन को एक मजबूत कंधे को तलाश थी । रविवार की रात रूपनारायणपुर हिंदुस्तान केबल्स राँची मोड़ संकट मोचन मंदिर प्रांगण से राम नाम जय घोष से आन्दोलन का शंखनाद किया गया और हिंदुस्तान केबल्स पुनर्वास कमिटी ने बाराबनी विधायक विधान उपाध्याय से आशियाना बचाने की गुहार लगायी । उन्होंने कहा आपलोगों की लड़ाई मेरी लड़ाई है किसी भी सूरत केबल्स को उजड़ने नहीं दिया जायेगा ।बंद हिंदुस्तान केबल्स को पुनः चालू कर फिर से यहाँ उद्योग बहाल करना होगा

संगठन अध्यक्ष सुभाष  महाजन ने कहा कि आज हिंदुस्तान केबल्स पुनर्वास कमिटी द्वारा बृहद जुलूस निकाला जाना था । निर्वाचन कमिशन द्वारा अनुमति नहीं मिलने के कारण स्थगित करना पड़ा किन्तु आगामी 20 अप्रैल को 2 हजार परिवार अपनी मांग को लेकर सड़क पर उतरेंगे ।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और सांसद बाबुल सुप्रियो की नीति ने यहाँ के हजारों परिवार को सड़क पर ला दिया है । केबल्स का एक-एक सामान नीलम हो चुका है। ऐसे में यहाँ 50-60 वर्षों से रहने वाले परिवारों को अब अपना आशियाना उजड़ने का भय सताने लगा है । सभी परिवार की स्थानीयता सुनिश्चित कर जमीन आवंटित किए जाने तक आन्दोलन जारी रहेगी । साथ ही बंद हिंदुस्तान केबल्स को पुनः चालू कर फिर से यहाँ उद्योग बहाल करना होगा ।

उन्होंने बताया कि यहाँ निवास करने वालों में अधिकतर मजदूर और बीपीएल परिवार है, जिनके लिए 2014 चुनाव जीतने के बाद सांसद बाबुल सुप्रियो मगरमच्छ के आँसू के साथ होली खेल कर गए थे । झूठा आश्वासन में उन्होंने कारखाना खोलने के बजाय बंद कर दिया गया और नाकामी छुपाने के लिए हाथ में चार फर्जी कागज के टुकड़े लिए घूम रहें है । सच तो यह है कि उन्होंने केबल्स को बचाने के लिए कुछ भी नहीं किया बल्कि पूरा इलाका को श्मशान घाट बना दिया । आज विधायक ने सभी को आश्वस्त किया है कि वे हर लड़ाई और संघर्ष में उनके साथ है । रामनवमी के मौके पर हनुमान जी और भगवान श्रीराम के नाम से आन्दोलन का उद्दघोष हो चुका है।

मौके पर सालानपुर तृणमूल महासचिव भोला सिंह, प्रवीर महता, मुकेश कुमार सीताराम यादव, कल्याण बाल्मीकि, टूलटूल घोष, रामवीर ओसवाल, गुड्डू सिंह, बागची कहार समेत अन्य उपस्थित थे ।

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video Upload

Last updated: अप्रैल 16th, 2019 by Guljar Khan