तृणमू तृणमूल उम्मीदवार संजय नोनिया के विकास कार्यों के कायल हैं वार्ड संख्या 58 की जनता

आसनसोल। पश्चिम बंगाल में  22 जनवरी को चार नगर निकायों का चुनाव होना है. जिस चुनावी मैदान में तमाम राजनीतिक दलों ने एक तरफ जहाँ अपनी उम्मीदवारों की लिस्ट में पुराने चेहरों के साथ-साथ नये चेहरों को मौका दिया हैं. तो वहीं दूसरी ओर चुनावी मैदान में उतरे निर्दलीय उम्मीदवारों ने पूरे दम ख़म से अपने विरोधी उम्मीदवारों को बुरी तरह हराने का ताल ठोकते हुए यह कह रहे हैं, की जनता इस बार पार्टी नहीं बल्कि चेहरा देखकर मतदान करेगी। वह इस लिए की जनता ने विकास के नाम पर कई बार पार्टियों को वोट दिया हैं और जितने बार वोट दिया है. वह उतनी बार ठगी का शिकार हुए हैं।

अगर हम नगर निकाय चुनाव के चल रहे चुनावी अंखाड़े की बात करें तो इस चुनावी अंखाड़े आसनसोल नगर निगम का चुनाव दिन-प्रतिदिन काफी दिलचस्प होता जा रहा हैं. यहाँ की राजनीति कुछ इस प्रकार है, की आसनसोल में होने वाली नगर निकाय चुनाव में तृणमूल द् मिलने पर तृणमूल के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया हैं. जिनमें से कुछ ने टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर निर्दलीय उम्मीदवार बनकर चुनावी मैदान में उतर गये तो कोई टिकट की लालच में आकर दूसरी पार्टी का दामन थाम अपनी ही पार्टी के उम्मीदवार को हराने के लिए चुनावी मैदान दो -दो हाथ करने के लिए तैयार हैं. यही हाल भाजपा, कॉंग्रेस और सीपीएम का हैं, ऐसे में चुनावी मैदान में चुनाव जितना अब उम्मीदवारों के लिए इतना कठिन हो गया हैं. की चुनावी मैदान में खड़े तमाम उम्मीदवार सुबह से लेकर शाम तक चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं. यह सोंचकर की जनता किसी भी तरह उनको उनके वार्ड से जीता दे और उनको-उनकी सेवा करने का एक मौका दे वहीं जनता भी आखिरकार करे भी तो क्या करे उनके दरवाजे पर वोट मांगने आये सभी उम्मीदवारों को वह ना आखिर बोले भी तो कैसे बोले मजबूरन सभी को उन्हें हाँ ही बोलना पड़ रहा हैं। जिस हाँ में किस पार्टी की तरफ जनता का सबसे ज्यादा झुकाव होगा यह तो कहना बहुत मुश्किल हैं, पर इसी बीच आसनसोल नगर निगम के वार्ड संख्या 58 में इलाके की जनता के साथ तृणमूल उम्मीदवार व युवा नेता संजय नोनिया का क्रिकेट खेलना कुछ और ही इसारा करता हैं. वह इसारा हैं। इलाके में विकास का वह विकास जिस विकास को इलाके की जनता को संजय नोनिया ने अपनी पूर्व काल में दिखाया हैं। वह विकास जिस विकास को इलाके की जनता ने शायद कभी ना तो देखा था और ना ही कभी सुना था और ना ही कभी कल्पना ही की थी, इलाके के रहने वाले संजीव नोनिया कहते हैं, की पिछले पाँच वर्षों में संजय नोनिया ने काफी विकास कार्य किये हैं, चाहे वह पेय जल की समस्या हो सड़क की समस्या हो या फिर बिजली की समस्या हो या फिर इलाके की कोई और समस्या हर समस्या का निदान संजय नोनिया ने अपने वार्ड में किया हैं, वहीं इलाके के रहने वाले मनोज नोनिया बताते हैं. की इलाके में स्वास्थ्य केंद्र नहीं ।
संजय नोनिया के परिवार ने स्वास्थ्य केंद्र के लिए अपना जमीन दान किया जिस वजह से इलाके में स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण हुआ और आज इलाके की गरीब जनता का यहाँ मुफ्त इलाज होता है। यह विकास इलाके की जनता के लिए सबसे बड़ी विकास हैं। वहीं इलाके के रहने वाले राजू प्रसाद बताते है। की इलाके की किसी गरीब जनता की बेटी की शादी हो या फिर किसी छात्र व छात्रा का पढ़ाई से जुड़ी कोई समस्या हो या फिर कोई गंभीर बीमारी से ग्रस्त हो जिसके इलाज के लिए कहीं ले जाना पड़े इलाज करवाना पड़े इन तमाम तरह के सामाजिक कार्यों में संजय नोनिया आगे रहते हैं। इस लिए इलाके की जनता को कोई और उम्मीदवार नहीं बल्कि इलाके का सबका दुलारा सबका चाहता संजय नोनिया ही वार्ड का पार्षद हो। इलाके की जनता और इस तरह का प्यार भरा प्रतिकिर्या को देख संजय नोनिया कहते हैं की वह हर रोज इलाके की जनता के साथ क्रिकेट खेलते हैं वह इस लिए की वह उन नेताओं में से नहीं हैं जो नेता चुनाव के समय भोली-भाली जनता के सामने हर चुनाव में झूठे वादे लेकर पहुँच जाते हैं वह वो नेता हैं।

जिन्होंने अपने वार्ड में विकास के नाम पर कोई झूठा वादा नहीं बल्कि विकास कार्य किया हैं जो विकास कार्य ही उनको निगम के चुनाव में उन्हें जिताएगा इस लिए उनको चुनाव प्रचार करने की कोई जरूर त नही. जनता को मालूम हैं के उनको किसको वोट देना है. और किस लिए वोट देना है। ल उम्मीदवार संजय नोनिया के विकास कार्यों के कायल हैं वार्ड संख्या 58 की जनता

आसनसोल। पश्चिम बंगाल में आगामी 22 जनवरी को चार नगर निकायों का चुनाव होना है. जिस चुनावी मैदान में तमाम राजनीतिक दलों ने एक तरफ जहाँ अपनी उम्मीदवारों की लिस्ट में पुराने चेहरों के साथ-साथ नये चेहरों को मौका दिया हैं. तो वहीं दूसरी ओर चुनावी मैदान में उतरे निर्दलीय उम्मीदवारों ने पूरे दम ख़म से अपने विरोधी उम्मीदवारों को बुरी तरह हराने का ताल ठोकते हुए यह कह रहे हैं, की जनता इस बार पार्टी नहीं बल्कि चेहरा देखकर मतदान करेगी। वह इस लिए की जनता ने विकास के नाम पर कई बार पार्टियों को वोट दिया हैं और जितने बार वोट दिया है. वह उतनी बार ठगी का शिकार हुए हैं।

अगर हम नगर निकाय चुनाव के चल रहे चुनावी अंखाड़े की बात करें तो इस चुनावी अंखाड़े आसनसोल नगर निगम का चुनाव दिन-प्रतिदिन काफी दिलचस्प होता जा रहा हैं. यहाँ की राजनीति कुछ इस प्रकार है, की आसनसोल में होने वाली नगर निकाय चुनाव में तृणमूल द्वारा पुराने चेहरों को छोड़ नये चेहरों को जगह देने से नाराज तृणमूल के पुराने पूर्व पार्षदों ने टिकट नहीं मिलने पर तृणमूल के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया हैं. जिनमें से कुछ ने टिकट नहीं मिलने से नाराज होकर निर्दलीय उम्मीदवार बनकर चुनावी मैदान में उतर गये तो कोई टिकट की लालच में आकर दूसरी पार्टी का दामन थाम अपनी ही पार्टी के उम्मीदवार को हराने के लिए चुनावी मैदान दो -दो हाथ करने के लिए तैयार हैं. यही हाल भाजपा, कॉंग्रेस और सीपीएम का हैं, ऐसे में चुनावी मैदान में चुनाव जितना अब उम्मीदवारों के लिए इतना कठिन हो गया हैं. की चुनावी मैदान में खड़े तमाम उम्मीदवार सुबह से लेकर शाम तक चुनाव प्रचार में लगे हुए हैं. यह सोंचकर की जनता किसी भी तरह उनको उनके वार्ड से जीता दे और उनको-उनकी सेवा करने का एक मौका दे वहीं जनता भी आखिरकार करे भी तो क्या करे उनके दरवाजे पर वोट मांगने आये सभी उम्मीदवारों को वह ना आखिर बोले भी तो कैसे बोले मजबूरन सभी को उन्हें हाँ ही बोलना पड़ रहा हैं। जिस हाँ में किस पार्टी की तरफ जनता का सबसे ज्यादा झुकाव होगा यह तो कहना बहुत मुश्किल हैं, पर इसी बीच आसनसोल नगर निगम के वार्ड संख्या 58 में इलाके की जनता के साथ तृणमूल उम्मीदवार व युवा नेता संजय नोनिया का क्रिकेट खेलना कुछ और ही इसारा करता हैं. वह इसारा हैं। इलाके में विकास का वह विकास जिस विकास को इलाके की जनता को संजय नोनिया ने अपनी पूर्व काल में दिखाया हैं। वह विकास जिस विकास को इलाके की जनता ने शायद कभी ना तो देखा था और ना ही कभी सुना था और ना ही कभी कल्पना ही की थी, इलाके के रहने वाले संजीव नोनिया कहते हैं, की पिछले पाँच वर्षों में संजय नोनिया ने काफी विकास कार्य किये हैं, चाहे वह पेय जल की समस्या हो सड़क की समस्या हो या फिर बिजली की समस्या हो या फिर इलाके की कोई और समस्या हर समस्या का निदान संजय नोनिया ने अपने वार्ड में किया हैं, वहीं इलाके के रहने वाले मनोज नोनिया बताते हैं. की इलाके में स्वास्थ्य केंद्र नहीं ।

संजय नोनिया के परिवार ने स्वास्थ्य केंद्र के लिए अपना जमीन दान किया जिस वजह से इलाके में स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण हुआ और आज इलाके की गरीब जनता का यहाँ मुफ्त इलाज होता है। यह विकास इलाके की जनता के लिए सबसे बड़ी विकास हैं। वहीं इलाके के रहने वाले राजू प्रसाद बताते है। की इलाके की किसी गरीब जनता की बेटी की शादी हो या फिर किसी छात्र व छात्रा का पढ़ाई से जुड़ी कोई समस्या हो या फिर कोई गंभीर बीमारी से ग्रस्त हो जिसके इलाज के लिए कहीं ले जाना पड़े इलाज करवाना पड़े इन तमाम तरह के सामाजिक कार्यों में संजय नोनिया आगे रहते हैं। इस लिए इलाके की जनता को कोई और उम्मीदवार नहीं बल्कि इलाके का सबका दुलारा सबका चाहता संजय नोनिया ही वार्ड का पार्षद हो। इलाके की जनता और इस तरह का प्यार भरा प्रतिकिर्या को देख संजय नोनिया कहते हैं की वह हर रोज इलाके की जनता के साथ क्रिकेट खेलते हैं वह इस लिए की वह उन नेताओं में से नहीं हैं जो नेता चुनाव के समय भोली-भाली जनता के सामने हर चुनाव में झूठे वादे लेकर पहुँच जाते हैं वह वो नेता हैं।

जिन्होंने अपने वार्ड में विकास के नाम पर कोई झूठा वादा नहीं बल्कि विकास कार्य किया हैं जो विकास कार्य ही उनको निगम के चुनाव में उन्हें जिताएगा इस लिए उनको चुनाव प्रचार करने की कोई जरूर त नही. जनता को मालूम हैं के उनको किसको वोट देना है. और किस लिए वोट देना है।

Last updated: जनवरी 9th, 2022 by Rishi Gupta
Rishi Gupta
Correspondent - Asansol
अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।