खराब सर्विस लेन के मरम्मत के सवाल पर हाइवे अधिकारी ने कही ये बात

रानीगंज के पंजाबी मोड़ स्थित नेशनल हाईवे 2 के सर्विस रोड का नेशनल हाईवे विभाग द्वारा मरम्मत तथा निर्माण ना किए जाने के कारण एक्सीडेंट जोन में परिणत हो चुकी है।

आसनसोल से रानीगंज ,अंडाल शहर में आने के लिए मौजूद सभी सर्विस रोड में बड़े-बड़े गड्ढे होने के कारण अक्सर यहाँ दुर्घटना हो रही है ।

सर्विस रोड में मौजूद बड़े बड़े गड्ढे  मौत को आमंत्रण दे रही है।

आसनसोल से रानीगंज आने के मध्य स्थित सभी सर्विस रोड की स्थिति काफी बदहाल है चाहे वह चांदा के ओवर ब्रिज का सर्विस रोड हो या बांसड़ा मोड़ का सर्विस रोड हो या मंगलपुर मोड़ का सर्विस रोड हो, सब की स्थिति भयावह है। इन सर्विस रोड में दुर्घटनाएं होना आम बात है ।

आंकड़े के अनुसार आसनसोल से रानीगंज के बीच जितने भी सर्विस रोड है उनमें सबसे व्यस्त पंजाबी मोड़ का सर्विस रोड है, रोजाना 10 हजार से अधिक वाहनों का आवागमन इस सर्विस रोड में होती है।

रानीगंज चैंबर ऑफ कॉमर्स के प्रतिष्ठित सदस्य एवं समाजसेवी पंजाबी मोड़ के बाशिंदे दयाशंकर राय ने कहा कि भैया हम लोगों के पास कोई उपाय भी नहीं है कि पंजाबी मोड़ को छोड़कर चले जाएं। आज सिक्स लाइनिंग की वजह से पूरा पंजाबी मोड़ गुजर गई है इतना ही नहीं व्यवसाय  की स्थिति दयनीय है,  यहाँ के गैरेज वाले से लेकर होटल वाले सभी की स्थिति बहुत खराब है और वैसे में जो बुनियादी सुविधा मिलनी चाहिए था वह भी नहीं रही।

कंपनी के वित्तीय संकट के कारण नहीं हो पा रहा मरम्मत

दूसरी ओर बदहाल सर्विस रोड के संबंध में नेशनल हाईवे दुर्गापुर के विभागीय अधिकारी ने बताया कि आई एल एफ एस के वित्तीय संकट के कारण सड़क पर मौजूद पूरी तरह से सड़कों का मरम्मत कर पाना संभव नहीं हो पा रही है। जबकि छोटे छोटे मरम्मत स्थानीय स्तर पर की जा रही है। उन्होंने बताया कि जो बड़ी कंपनियाँ सड़क निर्माण में कार्य कर रही थी फंड के अभाव में सभी कंपनियों ने अपने कार्य बंद कर दिए हैं। जिसके कारण सड़कों की मरम्मत नहीं हो पा रही है एवं नए सड़क का निर्माण भी नहीं हो पा रही है।

कई स्थानों पर तो नेशनल हाईवे 2 के विस्तारीकरण  कार्य लंबित भी पड़ी हुई है फिर भी छोटे-छोटे समस्याओं का शीघ्र समाधान की जा रही है । उन्होंने पंजाबी मोड़ तथा अन्य सर्विस रोड की मरम्मत करने की बात कही।

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video News Uploaded

Last updated: मई 15th, 2019 by Raniganj correspondent