सवालों के घेरे में मौर्य एक्स्प्रेस हादसा , नक्सली हमला था या नहीं ?

हादसे वाली मौर्य एक्स्प्रेस की बोगी

शनिवार की अहले सुबह किउल आउटर सिंहल के महेशलेट्टा के पास मौर्य एक्सप्रेस में रेल पटरी का अचानक बोगी में घुस जाने से एक व्यक्ति की मौत एवं दो अन्य घायल हो गए । जानकारों के अनुसार मौर्या एक्सप्रेस जिस ट्रैक से गुजर रही थी उसके बगल की पटरी पर मरम्मत का काम चल रहा था। इसी दौरान तेज रफ्तार से आ रही ट्रेन की जनरल बोगी में एक जबदस्त धमाके से साथ एक पुरानी पटरी घुस गई।

सुबह 4 बजे लखीसराय के निकट हुआ यह हादसा

घटना स्थल का निरीक्षण करते पुलिस अधिकारी

घटनास्थल किऊल जंक्शन स्‍टेशन के आउटर सिग्‍नल के पास पोल संख्‍या 418/17 के पास सुबह लगभग 4 बजे घटी। तेज रफ्‍तार से किऊल की तरफ आ रही मौर्य एक्‍सप्रेस ट्रेन के इंजन के बाद वाली सामान्‍य (जेनरल) बोगी में अप लाइन ट्रैक के किनारे रखी 10 फीट लंबी एक रेल पटरी बोगी में छेद करते हुए घुस गई। जिससे बोगी के दरवाजे के पास वाली सिंहल सीट पर बैठे एक व्यक्ति की मौत हो गयी और दो गंभीर रूप से घायल हो गए।

चार घंटे तक किउल स्टेशन में मची रही अफरा तफरी

दुर्घटना के बाद ट्रेन बढ़ती हुई किऊल पहुँच गई, इधर जेनरल बोगी में यात्री के जख्मी शरीर से निकले खून को देख अफरा-तफरी मच गई थी। ट्रेन के किउल स्‍टेशन के प्‍लेटफार्म नंबर तीन पर पहुँचने पर यात्रियों ने जमकर हंगामा किया। आरपीएफ और जीआरपी पुलिस पहुँच कर घायलों को उतारा। वहीं मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए रखा गया। मृतक की पहचान आजमगढ़, यूपी के मुन्‍नी लाल सेठ का पुत्र मंगल सेठ (50) के रूप में हुयी है जबकि सकरौली, सहरसा के खुशी लाल साह के पुत्र मुकेश कुमार (28) एवं चैता काली स्‍थान समस्‍तीपुर के दिनेश सहनी के पुत्र त्रिदेव सहनी (27) गंभीर रूप से घायल है। दोनों जख्‍मी को प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए सदर अस्‍पताल लखीसराय भेज दिया गया। किऊल में दुर्घटनाग्रस्त बोगी को काटकर दूसरी जेनरल बोगी जोड़कर ट्रेन रवाना की गई। किऊल स्‍टेशन से करीब 4 घंटे बाद दुर्घटनाग्रस्‍त बोगी को अलग कर ट्रेन को रवाना किया गया। क्षतिग्रस्त बोगी को काटकर किउल में ही रख लिया गया ।

रेलवे बता रहा है नक्सली हमला, पुलिस का इंकार

रेलवे इसे नक्सली घटना बता रहा है। जाँच को तकनीकी टीम के साथ पहुँचे डीआरएम रंजन प्रकाश ठाकुर ने कहा कि नक्सलियों ने स्लीपर खड़ा कर घटना को अंजाम दिया होगा। आगे डीआरएम ने कहा कि मृतक एवं घायलों को रेलवे प्रावधानों के अनुसार मुआवजा भी दिए जाऐंगे। दूसरी ओर लखीसराय के एसपी कार्तिकेय शर्मा एवं एएसपी अभियान पवन उपाध्याय ने इस घटना में नक्सलियों का हाथ होने से साफ इंकार किया । इस बीच घटना की विशेष जाँच पूर्व-मध्य हाजीपुर जोन के जीएम की देखरेख में जारी है।

Last updated: अप्रैल 14th, 2018 by Sanjeev Kumar Gandhi

अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।