साढ़े चार हजार रुपए चोरी के आरोप में युवक की खदान में धकेल कर हत्या , पुलिस ने सुलझाई गुत्थी

पंचेत : चिरकुंडा थाना अंतर्गत बाबू डंगाल मोड़ निवासी खलासी कृष्णा राय 30 वर्ष की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस के दबाव के बाद अपराधी ने घटना की स्वीकारोक्ति की। पुलिस ने बंद पड़े खदान से मंगलवार की सुबह शव को बरामद किया ।

प्रेस वार्ता के दौरान चिरकुंडा थाना प्रभारी सह पुलिस निरीक्षक प्रभात कुमार सिंह ने बताया कि कृष्णा राय के भाई मोहन राय ने 17 मई को पुलिस को सूचना दिया कि उसके भाई को पिंटू और राम जाने हांडी बुला कर ले गया है और हत्या कर दिया है।

इसके बाद पुलिस टीम गठित कर जाँच की गई। गहराई से पूछताछ करने पर रामजाने हांडी ने बताया कि 16 मई के रात को पिंटू कुमार सिंह 30 वर्ष बीटीसी कंपनी से  4666 रुपया वेतन उठाया और शराब पीने बाउती डीह चला आया। साथ में कृष्णा व राम जाने भी था।

हथकड़ी में हत्यारोपी पिंटू व गवाह रामजाने

अत्यधिक शराब पीने के कारण पिंटू सड़क पर ही सो गया। रात को नींद खुली तो पिंटू कुमार सिंह अपना पैसा ढूंढने लगा। इसी बीच पिंटू को रामजाने मिल गया। रामजाने ने बताया कि कृष्णा राय के पॉकेट में पैसे देखे थे। पिंटू ने राम जाने को कृष्णा के घर पहचान कराने की बात कही। इसलिये दोनों उसके घर गए और बुला कर लाया और पिंटू कृष्णा से पैसे मांगने लगा। इसको लेकर दोनों की बीच नोक-झोंक होने लगी। जबकि रामजाने झगड़ा नहीं करने की बात कह रहा था।

झगड़े के बीच फिर सभी बाउतीडीह बस्ती पहुँचे । मृतक कृष्णा के पास 20 रुपया था वो अलग से शराब पीने लगा। जबकि आरोपी पिंटू और रामजाने दूसरी जगह शराब पीने गया। वहाँ पिंटू ने साईकिल बंधक रख शराब पिया।

आरोपी पिंटू को इस बात का गुस्सा था कि मेरा पेमेंट का पैसा चला गया। साईकिल भी बंधक रख दिया। इसी गुस्से में आकर फिर से मारपीट शुरू हो गयी।

मारपीट के बाद कृष्णा झिलिया लांघ कर लायकडीह की ओर चला गया। पीछा करते हुए पिंटू भी पहुँचा। वहाँ भी दोनों के बीच धक्का-मुक्की शुरू हो गयी। जबकि इस वाकया के दौरान रामजाने बीच-बचाव कर रहा था। लेकिन दोनों के बीच झगड़े में एक हांथ से अपंग कृष्णा को पिंटू ने खदान में धक्का दे दिया।

हत्या का कारण पिंटू के गायब हुये पैसे का प्रतिशोध ही था। पुलिस ने हत्या के लिये पिंटू कुमार सिंह को ही मुख्य आरोपी बनाया है। रामजाने को चश्मदीद गवाह बनाया है।

थाना प्रभारी ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद अपराधी के खिलाफ सुसंगत धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की जायेगी।

शातिर अपराधी की तरह पुलिस को गुमराह कर रहा था पिंटू

बताया जाता है कि आरोपी पिंटू को पुलिस ने लाख प्रयास किया लेकिन वह नहीं टूटा। सोमवार को घटना स्थल के पास ले जाकर पूछताछ करती रही लेकिन वह घटना से इंकार करने के साथ कृष्णा को गायब करने के लिये उसके परिवार पर ही आरोप लगा रहा था। वह पुलिस को पहले लाश खोजने की बात कह रहा था। वह सोंच रहा था कि इतनी गहरी खदान से शव बरामद हो ही नहीं सकता। लेकिन रामजाने के कारण पुलिस को हत्या की गुत्थी सुलझाने में सफलता मिली। इस अभियान में सालों हेम्ब्रम,शिव नारायण राम, धर्मेंद कुमार, शैलेश कुमार, राजू कुमार, इस्लाम अंसारी, आदित्य नायक पुलिस अधिकारी शामिल थे।

Last updated: मई 19th, 2020 by Sanjay Burman
अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।