बक्सर से पैदल मालदा जा रहे थे दर्जनों मजदूर , बीसीसीएल दामगोड़िया कोलियरी प्रबंधन ने की मदद

कुबेर पावर प्लांट कानपुर उतर प्रदेश में काम कर रहे दर्जनों ठेका मजदूर प्लांट बंद होने के बाद सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल कर बराकर ड़ीबुडीह चेक नाका पहुँचे। वहाँ बीसीसीएल सीवी एरिया के दामगोड़िया कोलियरी प्रबंधन ने स्थानीय लोगों अधिकारियों और कर्मचारियों के सहयोग से बुधवार को उनके लिए भोजन ,दवा एवं आश्रय दिया।

इस संबंध में बीसीसीएल एरिया बारह के कार्मिक प्रबंधक सुमंतो राय ने बताया कि मालदा जिला के चाचल थाना अंतर्गत समसी गाँव के रहनेवाले सुरजन मंडल, मेघनाथ कुमार, राजेन्द्र राय, नीरज भुईयां, बरुण मंडल, एवं महिलाओं एवं बच्चे जो समेत उत्तर प्रदेश के बलिया जिला की सीमावर्ती क्षेत्र से पैदल ही डीबूडीह चेकपोस्ट के रास्ते मालदा जिला पैदल ही जा रहे थे । देवीपुर गाँव के सामाजिक कार्यकर्ता कीनू मांझी की नजर पड़ी और तत्काल दामगोड़िया के अधिकारियों को सूचना दी गई ।

सभी को दामगोड़िया कोलियरी लाया गया और चौरंगी पुलिस को सूचना देने के बाद परियोजना के चिकित्सकों ने कई बीमार लोगों का इलाज के साथ कोरोना के लक्षणों की जाँच की । इस संबंध में मजदूरों ने बताया कि उत्तर प्रदेश के कानपुर के कुबेर पावर प्लांट में काम करते थे लेकिन सरकार द्वारा लॉक डाउन की घोषणा के बाद ठेकेदार ने काम से हटा दिया ।

कानपुर से सरकार द्वारा की गई व्यवस्था के पर बलिया तक बस से आ गये । वहाँ से कोई साधन नहीं मिलने पर पैदल ही बक्सर के रास्ते धनबाद होता हुये यहाँ तक पहुँचे । कोलियरी के एजेंट एम एस धुत, मैनेजर धमेन्द्र तिवारी, सुमंतो राय, बीके साव, रजत नायक ने मिलकर पहले सभी को नाश्ता एवं दोपहर में भोजन करवाया।

आगे की कार्यवाही को लेकर कोलियरी प्रबंधन ने चौरंगी थाना को सूचना दे दी गई है । प्रबंधन ने कुरकुटिया बस्ती में 170 घरों में भोजन की व्यवस्था की गई।

Last updated: अप्रैल 2nd, 2020 by Sanjay Burman
अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।