अमित शाह जब मुख खोलते हैं तो जहर ही निकलता है

2017 साल में नोटबंदी से 1.5 करोड़ लोग रोजगार से बेरोजगार हुए हैं , देश में एनआरसी लागु कर हिन्दुस्तान को बाँटने का साजिश हो रही है । मायावती की तरह ही अमित शाह पर भी प्रतिबंध चुनाव आयोग को लगना चाहिए । जिस प्रकार से वह देश को बाँटने में भाषा का चुनाव प्रचार में कर रहे है । उक्त बातें सोमवार को सिटी सेंटर स्थित माकपा कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए माकपा केंद्रीय कमिटी के सदस्य वृंदा करात ने कहीं ।

उन्होंने कहा कि भाजपा का लहर सिर्फ मीडिया में है । देश के हर राज्य में मोदी फिनिश होती नजर आ रही है । देश के लिए शहीद हुए सैनिकों को भुला कर मोदी हर सभा में अपना पीठ थपथपा रहे है जो आचार संहिता उल्लंघन है । शहीद सैनिकों का बलिदान को सामने रख कर जनता से वोट मांग रहे है । सच्चाई यह है कि देश की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते पाँच वर्षों में देश के लिए कुछ भी नहीं किया । लोगों के खाते में न पद्रंह लाख रुपये आए न ही प्रति वर्ष दो करोड़ लोगों को रोजगार मिला । अपने नाकामी को छुपाने के लिए मोदी सैनिकों की बलिदान के आड़ में वोट लेने का कोशिश कर रही है ।

उन्होंने कहा कि त्रिपूरा में जिस प्रकार से भाजपा ने वोट लूट कर सरकार बनाया है, ठीक उसी प्रकार से राज्य में तृणमूल कॉंग्रेस ने भी नगर निगम और पंचायत चुनाव में भी वोट लूट कर जनता को उनके अधिकार से वंचित किया है । दोनों पार्टी में कोई फर्क नहीं है ।

उन्होंने कहा चुनाव आयोग पर उन लोगों को आस्था है कि तीसरे से लेकर सातवें चरण के चुनाव में हर बूथों पर अर्धसैनिक बल तैनात कर जनता को उनके अधिकार का प्रयोग करने का मौका दिया जाएगा । उन्होंने कहा कि पूरे देश में वामपंथी अच्छा करेगी । इस बार माकपा सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाएगी ।

अमित शाह पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अमित शाह जब भी बोलते हैं वह जहर उगलते हैं , भाषा का ज्ञान नहीं है , रास्ते में जिस तरह लोग झगड़ा करते हैं , भाजपा सरकार उसी तरह की है । झगड़ालू सरकारहै।

इस अवसर पर माकपा नेता पंकज राय सरकार,तुफान मंडल आदि मौजूद थे ।

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video Upload

Last updated: अप्रैल 22nd, 2019 by Durgapur Correspondent