बंगाल के 258 मजदूरों को मैथन से ले गयी बंगाल सरकार

करीब डेढ़ माह के बाद मुर्शिदाबाद के मजदूरों को घर जाने के लिये आश पूरा हुआ। अंततः झारखंड सरकार के पहल पर बंगाल सरकार मजदूरों को अपने राज्य वापस ले जाने के लिये बस भेजा। जानकारी हो कि मैथन स्थित बीएसके कॉलेज में बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के करीब 150 शरणार्थी को पश्चिम बंगाल प्रशासन के पहल पर गुरुवार दोपहर बाद पश्चिम बंगाल बस द्वारा भेज दिया गया।

पश्चिम बंगाल सरकार के अधिकारियों ने गुरुवार को 40 बसे लेकर पहुँची। मजदूरों को अपने गंतव्य स्थान पर ले जाने से पूर्व मैथन स्थित झारखंड -पश्चिम बंगाल सीमा पर सभी शरणार्थियों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई । जानकारी हो कि मालूम रहे कि पिछले 30 मार्च से क्वारं टाइन में थे।

इसकी जानकारी देते हुए निरसा एसडीपीओ विजय कुमार कुशवाहा ने बताया कि वरीय अधिकारियों के पहल पर पश्चिम बंगाल प्रशासन ने बस भेजकर क्वारं टाइन में रखे गए मजदूरों को बंगाल सरकार बस भेज कर पश्चिम बंगाल ले गई। बुधवार को भी देर शाम मैथन करीब 108 मजदूरों को भी बंगाल सरकार ने ले गई थी। शारीरिक दूरी का पालन करते हुए एक बस में 20 मजदूरों को भेजा गया है।

इस दौरान बंगाल के एडीसीपीआसनसोल अनामित्रा दास बीडीओविजेंद्र कुमार सहित अन्य उपस्थित थे।

इस खबर के प्रायोजक हैं : Bengal Press - Asansol

यहाँ सभी प्रकार की मल्टी कलर ऑफसेट , स्क्रीन एवं फ़्लेक्स की प्रिंटिंग सबसे कम कीमत पर की जाती है।
Last updated: मई 8th, 2020 by Sanjay Burman
Avatar Sanjay Burman
Correspondent from Panchet (Dist. Dhanbad , Jharkand)
अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।