धरती पर राम कथा सुनते रहने के लिए स्वर्ग नहीं गए हनुमान – प्रदीप भैया

जोगराज पंचायत के जून कुंदर ब्रह्मस्थान स्थित मंगल मूर्ति धाम में तृतीय स्थापना दिवस मनाया गया। इस दौरान वृंदावन से आये प्रदीप भैया ने पाँच दिवसीय हनुमान कथा का शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम की शुरूआत में हनुमान जी के तस्वीर पर पुष्प अर्पित के साथ आरती की गयी। इस दौरान कथा वाचक प्रदीप भैया ने कहा कि जो धर्म के रास्ते चलता है, उसे कष्ठ होता ही है। लेकिन भगवान के स्मरण से कष्ठ से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। इसके लिये आप जिस भगवान पर रुचि रखते है उसका नाम स्मरण करें।

उन्होंने कहा कि श्रीराम जी हनुमान जी को स्वर्ग ले जाना चाहते थे लेकिन हनुमान जी यह कह कर स्वर्ग जाने से इंकार कर दिया कि स्वर्ग में आपकी कथा नहीं होती, धरती पर ही आपकी कथा होती है, हम आपके कथा सुनना चाहते है। लेकिन आज समाज की विडंबना है कि कोई किसी की नहीं सुनता, पुत्र पिता की नहीं सुनता, अधिकारी नेता के नहीं सुनते और नेता कार्यकर्ता की नहीं सुनते है।

उन्होंने कहा कि जीवन में गुरु का होना जरूरी है। जिनका कोई गुरु नहीं उसका जीवन शुरू नही। उन्होंने कहा कि धर्म की रक्षा के लिये हमें अपने आप में बदलाव लाना होगा। धर्म की रक्षा के लिये कोई नेता ,एमएलए नहीं करेगा, बल्कि समाज के पुरुष महिला कर सकते है। उन्होंने कहा कि धर्म की रक्षा के लिये गौ शाला नहीं खोल सकते मंदिर नहीं बना सकते लेकिन हम सहयोग जरूर कर सकते है।

आयोजन में चन्द्रदेव यादव, मुखिया रिंटू पाठक,सुदेश सिंह, मृत्युंजय पाठक, मधुसूधन तिवारी,जय प्रकाश सिंह , कृष्णा लाल रूंगटा, राजू चौहाण, भोला चौहान,बिरेन्द्र यादव, बाबन मित्रा, राजेश साव, गुड्डू सिंह, इंद्रदेव प्रसाद, रंजीत चौधरी,पंकज, रवि महतो, ललिता देवी, नीलम देवी, सविता गोराई, पुष्पा देवी सहित उपस्थित थे।

इस खबर के प्रायोजक हैं : Bengal Press - Asansol

यहाँ सभी प्रकार की मल्टी कलर ऑफसेट , स्क्रीन एवं फ़्लेक्स की प्रिंटिंग सबसे कम कीमत पर की जाती है।
Last updated: फ़रवरी 17th, 2020 by Sanjay Burman
Avatar Sanjay Burman
Correspondent from Panchet (Dist. Dhanbad , Jharkand)
अपने आस-पास की ताजा खबर हमें देने के लिए यहाँ क्लिक करें

हर रोज ताजा खबरें तुरंत पढ़ने के लिए हमारे ऐंड्रोइड ऐप्प डाउनलोड कर लें
आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।