Monday Morning News Network
You can Print this page with "Control" + "P" Button of your Window or whatever method of your operating system

पीएचई से पानी चोरी कर स्टील प्लांट में सप्लाई , नेता कर्मचारी अनजान , लोग तरस रहे पानी के लिए

मोटर लगाकर पानी की चोरी करता टैंकर

कल्याणेश्वरी। कल्याणेश्वरी मंदिर के निकट स्थित लगभग पूरे पश्चिम बर्द्धमान को पेयजलापूर्ति करने वाला पीएचई के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट विभाग की दीवार तोड़कर प्रतिदिन धड़ल्ले से करीब एक लाख लीटर पानी की चोरी की जा रही है जिसे क्षेत्र में सक्रिय जल माफिया क्षेत्र के विभिन्न कल कारखानों में में टैंकर के माध्यम से खपा कर मोटी कमाई कर रहे है।पूरे प्रकरण में स्थानीय प्रशासन से लेकर पीएचई विभाग मूकदर्शक बनी हुई है। यह सिलसिला यहाँ लागभग दो माह से निरंतर जारी है।

आस-पास के स्टील प्लांट में खपाया जाता है चोरी का पानी

घटना के संदर्भ में कुछ स्थानीय लोगों ने बताया कि कल्याणेश्वरी से डिबुडीह जाने वाली मुख्य मार्ग के किनारे ही पीएचई विभाग के जल संयंत्र का दीवार तोड़ दिया गया है जहाँ से डीजल पम्प के माध्यम से प्रतिदिन पाँच टैंकर(दस चक्का) पानी पास के देंदुआ स्थित एलोकुएन्ट स्टील प्लांट समेत अन्य प्लांट में खपाया जाता है। एक टैंकर की क्षमता 20 हजार लीटर है। इस प्रकार प्रतिदिन एक लाख लीटर पानी की कालाबाजारी बदस्तूर जारी है।

कैमरे की जद में आए इस टैंकर के चालक संतोष रूईदास ने बताया कि टैंकर कल्याणेश्वरी निवासी बूढ़ा दा का है, में तो चालक हूँ । साथ ही उन्होंने कहा कि यह पानी ड्रेन और नाले से जमा हो रही है। यह बात पूर्ण रूप से असत्य है।

पानी को नाले में बहाकर एक तालाब में जमा किया जाता है और वहाँ से पानी की चोरी होती है

स्थानीय लोगों के अनुसार प्रतिदिन एक लाख लीटर पानी का अवैध तस्करी किया जा रहा है जबकि लागभग 2 लाख लीटर पानी नाले में बह जा रही है। ऐसे में जल संयंत्र से प्रतिदिन 3 लाख लीटर पानी वेस्टेज होना हजम नहीं होती है। दूसरी ओर लोगों का कहना है कि टैंकर संचालक पीएचई विभाग में ठेकेदार भी है, जिसके वजह से यहाँ कार्यरत कर्मचारियों से मिली भगत कर अधिक से अधिक पानी को बर्बाद किया जा रहा है, जिसे कैम्पस के भीतर ही एक बड़ा तालाब नुमा गड्ढा खोदकर जमा किया जाता है।

कर्मचारियों इस चोरी से अनभिज्ञ हैं

पूरे प्रकरण में पीएचई विभाग में कार्यरत कुछ कर्मचारियों से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि घटना की जानकारी नहीं है फिर भी यदि कोई कैम्पस के भीतर से पानी ले रहा है तो यह अपराध है। हम लोग इस मामले में आसनसोल स्थित पीएचई विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को विस्तृत जानकारी भेज देंगे।

मेयर सह जिलाध्यक्ष को जानकारी देने की बात कही

दूसरी ओर मामले को लेकर कुल्टी वार्ड संख्या 16 से काउंसिलर सुमित्रा बाउरी से पूछने पर उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पेय जल उपलब्ध कराना अभी प्राथमिकता है । यदि किसी के द्वारा भी जल का दुरुपयोग किया जा रहा है तो गलत है। उन्होंने कहा जल्द ही मामले से आसनसोल मेयर जितेंद्र तिवारी समेत जल एमआईसी पुर्नसशी रॉय को अवगत करा दिया जाएगा साथ ही दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही किया जाएगा।

आसनसोल सहित जिला के कई क्षेत्र जल संकट से जूझ रहे हैं

गौरतलब है कि रानीगंज, आसनसोल, कुल्टी , पाण्डेश्वर के कई क्षेत्र गंभीर जल संकट से जूझ रहे हैं और आए दिन विरोध-प्रदर्शन होते रहते हैं । उस स्थिति में इतने बड़े पैमाने पर पानी की चोरी और हर जिम्मेदार व्यक्ति का मामले से अनभिज्ञ होना कई सवाल खड़े करता है।

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video News Uploaded

Last updated: जून 11th, 2019 by