तीन अधेड़ और एक वृद्ध मिलकर तीन महीने से कर रहे थे नाबालिग का यौन शोषण

सालानपुर। सालानपुर थाना क्षेत्र के एक गाँव में मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटना प्रकाश में आया है जहाँ 37 वर्ष से लेकर 62 वर्ष तक के चार दानव पर 12 वर्षीय बच्ची के साथ जबरन बलात्कार एवं यौन शोषण करने का आरोप लगा है। घटना के बाद पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर कोर्ट चालान कर दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सालानपुर थाना क्षेत्र के एक गाँव की महज 12 वर्षीय बच्ची के साथ विगत तीन माह से हो रही हैवानियत का अंत शुक्रवार को हुआ। गाँव के भगदेव माजी(62), जीतन दास(52), दीपक माजी(50), तथा मिलन माजी(37) ने मिलकर निरंतर तीन माह तक डर, भय, और लालच देकर मासूम बच्ची के साथ गाँव के तालाब के बांस के झुंड के पास हवस का शिकार बनाता था।

खाप पंचायत में सजा देकर मामले को रफा-दफा कर दिया गया

परिजनों के अनुसार शुक्रवार को गाँव के ही एक व्यक्ति की नज़र इन हैवानों पर पड़ते ही मामले से पर्दा हटा। प्रत्यक्षदर्शी ने पूरे मामले की जानकारी बच्ची की बड़ी माँ बताया किन्तु कुछ समाज के ठेकेदार मामले को दबाना चाहते थे और पूरा दिन आरोपियों को खाप पंचायत की तर्ज पर सामुहिक सजा देते रहे। जिसमें आरोपियों को कान पकड़कर उठक बैठक, समेत कान पकड़कर पूरा गाँव घुमाया गया साथ ही दूबारा ऐसा नहीं करने की हिदायत दी गयी। बच्ची की शादी के समय विवाह का पूरा खर्च चारों आरोपियों पर मढ़ कर मामले को रफा दफा कर दिया गया।

सजा की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल होने पर पुलिस हरकत में आई

घटना और ग्रामीणों द्वारा दी जा रही सजा की तस्वीर सोशल मीडिया पर किसी द्वारा वायरल कर देने के बाद मामला जंगल में आग की तरह फैल गयी, सूचना मिलते ही पुलिस हरकत में आई। जिसके बाद परिजनों ने भी सभी आरोपियों के विरुद्ध सालानपुर थाना में शिकायत दर्ज कराई।

मामले में पुलिस ने तत्काल कार्यवाही करते हुए पीड़िता बच्ची का मेडिकल परीक्षण कर देर संध्या आरोपियों के घर पकड़ के लिए ताबड़तोड़ छापामारी कर दी एवं सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने सभी आरोपियों पर धारा 376 समेत पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर आसनसोल न्यायालय चालान कर दिया । बताया जाता है कि सालानपुर पुलिस द्वारा न्यायालय ने सभी आरोपियों की रिमांड के लिए अर्जी दी गयी है। जिसके बाद आरोपियों से और भी गहनता से पूछताछ किया जाएगा।

पीड़िता का परिवार बहुत ही गरीब है । पिता मज़दूरी कर बच्चों का पालन पोषण करता है । बेटी कक्षा 6 में पढ़ती है। आरोपी भगदेव मांझी (62) गाँव में ही ठेला लगता है, आरोपी जीतन दास, दीपक मांझी मज़दूरी करता है जबकि चौथा आरोपी मिलन मांझी राजमिस्त्री का कार्य करता है।

पुलिस पर मामला दबाने का लगा आरोप, कहाँ शिकायत से बदनामी होगी

पूरे प्रकरण में पीड़िता की माँ ने सालानपुर थाना के एक पुलिस अधिकारी पर मामला रफ दफा करने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है। पीड़ित की माँ ने बताया कि शुक्रवार को पुलिस गाड़ी में सवार होकर मैं और मेरी पुत्री मेडिकल परीक्षण के लिए जा रहे थे। साथ में मौजूद पुलिस अधिकारी ने कहा क्या होगा मामला दर्ज कर । समाज में आपकी बेटी की बदनामी होगी। इसपर पीड़ित की माँ ने कहा अब बदनामी के लिए और बचा क्या है। मुझे सिर्फ इंसाफ चाहिए और आरोपियों को सजा।

शनिवार पुलिस द्वारा ही मामला रफा दफा मामले को लेकर क्षेत्र में चर्चा का विषय बना रहा। इतना ही नहीं पूरे प्रकरण में पुलिस ने मीडिया कर्मी को अंधेरे में रखने का कोई कसर बाकी नहीं छोड़ा, कोई आरोपियों की फ़ोटो लेने तो कोई पीड़ित परिवार का बयान लेने से रोकता रहा। घटना और पुलिस के रवैये को लेकर आम लोगों में पुलिस के प्रति असंतोष व्याप्त है।

Last updated: जुलाई 13th, 2019 by Guljar Khan

Subscribe Our YouTube Channel for instant Video News Uploaded

आपके मोबाइल में किसी ऐप के माध्यम से जावास्क्रिप्ट को निष्क्रिय कर दिया गया है। बिना जावास्क्रिप्ट के यह पेज ठीक से नहीं खुल सकता है ।