अराजकता के घोर अन्धकार में सुप्रीम अदालत जगाती है उम्मीद, लोकतंत्र के रक्षक अभी मौजूद है

---editorial

पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव में विरोधी विहीन जीत के लिए उल्लासित तृणमूल प्रार्थियों को बड़ा झटका देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 14 मई को होने वाले पंचायत चुनाव तो जारी […]

मानवाधिकार समाजसेवा और विकास

---editorial

Disclaimer :  जो संगठन निष्ठा से मानव सेवा में लगे हैं उनको मेरी ओर से साधुवाद है लेकिन साथ ही छद्म समाजसेवियों पर प्रहार भी जरूरी है। मैं कहानियाँ लिखता नहीं […]

पुनर्जीवित होगा आसनसोल के विकास का गवाह यह भवन

आसनसोल के विकास का गवाह डूरैंड सिनेमा हॉल
---editorial

डुरांड इंस्टीच्युट भारतीय रेल का प्रथम मनोरंजन क्लब आसनसोल -प्रवेश द्वार के पास आज भी एक स्मृति चिन्ह मौजूद है, जिसपर द्वितीय विश्व युद्ध में अपने जीवन को कुर्बान करने […]

ममता बनर्जी को याद आए अटल बिहारी वाजपेयी

---editorial

आज भारत के 10वें प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म दिन है।  अपने चीर परिचित अंदाज में आज ममता बनजी ने उन्हें श्रद्धांजलि  अर्पित करते हुये एक तस्वीर भी […]

चारा घोटाला फैसला- बैकवर्ड बनाम फॉरवर्ड

---editorial

अपराध करने वालों के लिए जातीय और धार्मिक चोला पहनना सबसे आसान है और आम लोगों का जयकारा लगाना भी परंतु विद्वान और काबिल लोग जब …..

पढ़ेगा इंडिया और बेरोजगार होगा इंडिया

---editorial

भारत बेरोज़गारी की समस्या से जूझ रहा है. यहाँ तक कि योजना आयोग का भी यही विचार है कि भविष्य में यह समस्या शिक्षित वर्ग में और भी बढ़ेगी। बेरोजगारी […]

बालमजदूरी हटाओ

---editorial

भारत में बालमजदूरी एक सामाजिक आर्थिक समस्या है,और इसके मूल में गरीबी है। भारत में 37.2 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं, जो जीवन की मूल आवश्यकताओं से […]

क्या पुष्पा भालोटिया मानव नहीं थी

---editorial

आज विश्व मानवाधिकार दिवस है. पूरे विश्व में आज मानवाधिकार दिवस मनाया जा रहा है. आसनसोल-दुर्गापुर क्षेत्र में भी ढेर सारे तथाकथित मानवाधिकार संगठन क्रियाशील हैं. इनमें से ज्यादातर मानवाधिकार […]

मुहम्मद के संदेशों से दूर हो रहे हैं मुसलमान

---editorial

उनकी भूमिका धार्मिक और सांसारिक दोनों स्तरों पर काफी प्रभावशाली थी “द हंड्रेड” नामक पुस्तक अमेरिकी लेखक डॉ. माइकल हार्ट ने 1978 में लिखी थी। इसके तहत मानव इतिहास पर […]

नक्सलबाड़ी आन्दोलन : किसानों-मजदूरों के लिए क्रांतिकारी बदलाव के अब 36 टुकड़े

---editorial

पुलिस उन्हें लालबाजार ले जाकर 12 दिनों तक गहन पूछताछ करती रही. खराब स्वास्थ्य और बिना रुके पूछताछ से उनका शरीर जवाब दे गया. इस वजह से 28 जुलाई 1972 को….